विभीषण गीता : भगवान श्री राम का विजय रथ

भारतीय जनमानस में बसा राम-रावण का युद्ध वास्तव में हम सभी के जीवन में प्रतिदिन चलता रहता है! जीवन के इस युद्ध में कैसे विजय पाएं? इस रहस्य को गोस्वामी तुलसीदासकृत रामचरितमानस में भगवान राम ने समझाया है| इस प्रसंग में काव्यात्मक दृष्टि से अद्भुत रूपकों के सटीक प्रयोग से भारतीय दर्शन की सुन्दर झलक और जीवन के लिए आज भी उपयोगी प्रेरणा मिलती है|

Advertisements

Powered by WordPress.com.

Up ↑