Entering The Dreaded Friendzone

In this guest article under the leadership of our friend, ever vibrant thinker Shruti, we tried to explore the notion of friendzone using peer-reviewed research! We describe the zone itself, explain how someone enters the zone, dispel pop culture driven myths like "nice guys finish last" and finally try to drive a positive message home 🙂

“हे रघुनन्दन ! यह सब फेसबुक की माया है !”

महामुनि, धैर्य की प्रतिमूर्ति , भगवान श्रीराम  एक अँधेरी गुफा में लक्ष्मण जी के साथ बैठे थे | बाली वध के पश्चात सुग्रीव को सिंहासनासीन किये काफी समय बीत गया था | परन्तु सुग्रीव की ओर से कोई सन्देश नहीं आया | सीता माता के हरण के बाद एक एक क्षण एक एक युग के... Continue Reading →

नव मार्ग भक्ति : भगवान राम का माता शबरी से संवाद

बनारस में पैदा होने के अनगिनत सौभाग्यों में से एक है गली-गली में भगवान के साक्षात दर्शन होना | बचपन से चाहे स्कूल जाना हो, कोचिंग जाना हो, बाज़ार जाना हो : हमेशा बरगद के पेड़ों के नीचे लाल देह धरे बजरंग बली हनुमान जी  के  दर्शन सुलभ होते हैं | मंगलवार और शनिवार को... Continue Reading →

Powered by WordPress.com.

Up ↑